स्टूडेंट को कैसे पढ़ाएं (Student Ko Kaise Padhana Chahiye)

Student Ko Kaise Padhana Chahiye: नमस्ते दोस्तों आज के लेख में मैं आपको बताऊंगा कि आप को कैसे Student को पढ़ा सकते हैं। अगर आप एक शिक्षक हैं और अगर आप एक बेहतरीन तरकीब ढूंढ रहे हैं जिसकी मदद से आप अपने स्टूडेंट को पढ़ा सके तो आप बिल्कुल सही जगह पर है। 

आज के लेख में एक में मैं आपको पूरी जानकारी देने वाला हूं कि आप कैसे अपने स्टूडेंट को पढ़ा सकते हैं ताकि वह अच्छा नंबर लेकर आप आए काफी ज्यादा शिक्षक को बहुत ही ज्यादा परेशानी होती है कि उनके विद्यार्थी अच्छा नंबर नहीं ला पाते

अगर आप एक बेहतरीन तरकीब खोज रहे हैं जिसकी मदद से आप अपने स्टूडेंट को पढ़ा सके तो आप बिल्कुल सही जगह पर हैं। आज के Article मे मैं आपको पूरी जानकारी देने वाला हूं कि आप कैसे अपने स्टूडेंट को  पढ़ा सकते हैं 

Join Now Telegram

ताकि वह अच्छा नंबर लेकर आप आए काफी ज्यादा शिक्षक को बहुत ही ज्यादा परेशानी होती है कि उनके विद्यार्थी अच्छा नंबर नहीं ला पाते अगर आप एक शिक्षक हैं और अगर आप सही तरीका जानना चाहते हैं की स्टूडेंट को कैसे पढ़ाएं हैं। 

तो इस आर्टिकल में हमने आप को बेहतरीन तरीके बताए हैं जिसके माध्यम से आप अपने विद्यार्थियों को बहुत ही आसानी से पढ़ा सकते हैं और अगर आप हमारे द्वारा बताएं गए बातों का ध्यान रखते हैं और उस तरीके से उनको पढ़ाते हैं तो वह बहुत ही अच्छा नंबर लाएंगे। 

स्टूडेंट को कैसे पढ़ाएं (Student Ko Kaise Padhana Chahiye)

स्टूडेंट को कैसे पढ़ाएं

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि आज का सबसे ज्यादा कठिन कार्य स्टूडेंट को पढ़ाना है आजकल के विद्यार्थी पढ़ाई को Serious तरीके से नहीं लेते हैं जिससे शिक्षकों को काफी ज्यादा समस्या आता है। 

अगर आप उन्हीं समस्या से जूझ रही हैं तो आप बिल्कुल सही स्थान पर हैं आज के लिए एक में मैं आपको सही तरीका बताने वाला हूं और स्टूडेंट को पढ़ाने का जिससे आप आसानी से अपने स्टूडेंट को पढ़ा सकते हैं और वह बहुत ही आसानी से अच्छा नंबर ला सकता है

स्टूडेंट को पढ़ाने के लिए सबसे पहले उनको पढ़ाई के महत्व के बारे में बताना चाहिए। अगर आप चाहते हैं कि आप का स्टूडेंट अच्छे से पढ़ाई करें तो उसको पढ़ाई के महत्व के बारे में बताइए और समझाइए कि पढ़ाई उसके लिए कितना ज्यादा जरूरी है। 

पढ़ाने का तरीका बताइए कभी भी पढ़ाने के लिए आप विद्यार्थियों पर प्रेशर ना बनाएं कि उनको पढ़ना ही है आप हंसी मजाक में सिखाने की कोशिश कर सकते हैं स्टूडेंट को पढ़ाने के लिए Story का उपयोग करें कहानी का प्रयोग करके उनको हर एक Chapter समझाने की कोशिश करें। 

काफी ज्यादा शिक्षक चैप्टर को समझाने पर फोकस नहीं करते हैं वह सिर्फ क्वेश्चन आंसर कराकर और उनको लिखवा देते हैं जिससे उनकी विद्यार्थियों को समझ में कुछ नहीं आता उनको रटना पड़ता है। रटा हुआ ज्ञान ज्यादा देर तक नहीं टिक पाता। 

विद्यार्थी को कैसे पढ़ना चाहिए (Student Ko Kaise Padhana Chahiye)

तो आइए स्टेप बाय स्टेप तरीके से जानते हैं कि स्टूडेंट को कैसे पढ़ाना चाहिए। पढ़ाने के लिए एक अच्छी ट्रेनिंग का होना बहुत ज्यादा जरूरी होता है लेकिन किसी भी कारण से अगर आपको अच्छा ट्रेनिंग नहीं मिल पाया है तो आपको यह समस्या जरूर आएगा कि आपको पता ही नहीं होगा कि स्टूडेंट को कैसे पढ़ाया जाता है। 

लेकिन चिंता की कोई बात नहीं है इसलिए मैं आपको बेहतरीन तरीके बताने वाला हूं जिसका उपयोग करके अपने विद्यार्थियों को बहुत ही आसानी से पढ़ा सकते हैं। 

1. विद्यार्थियों को पढ़ाई का महत्व समझाएं

जब आप अपने विद्यार्थियों को पढ़ाई का महत्व समझाएंगे तब उनको पढ़ाई का महत्व समझ में आएगा और वहां पढ़ाई को सीरियस तरीके से लेंगे और ज्यादा से ज्यादा समय अपना पढ़ाई में लगाएंगे। 

अगर आपसे अच्छे टीचर बनना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले अपने विद्यार्थियों को हर एक चैप्टर का महत्व समझाना होगा कि आखिर क्यों चैप्टर उनके लिए क्यों जरूरी है। 

जिससे वह पढ़ाई को सीरियस तरीके से लेने जाएंगे और वहां पढ़ाई में मनाएंगे जब हमें किसी भी चीज को करने का रिजल्ट मिलते रहता है तो हमारा ध्यान पढ़ाई की तरफ रहता है और हम बहुत ही आसानी से पढ़ाई को कर पाते हैं।

2. Chapter को अच्छे से Explain करें

ज्यादातर  शिक्षक यह गलती करते हैं कि वह चैप्टर को जल्दी-जल्दी पढ़ा कर खत्म कर देते हैं जिससे विद्यार्थियों को कुछ भी समझ में नहीं आता है। अगर आप ऐसा करते हैं। तो आपके विद्यार्थी को कभी भी कुछ समझ में नहीं आएगा। 

आपको ज्यादा से ज्यादा समय चैप्टर एक्सप्लेन करने में देना चाहिए जितना अच्छे तरीके से आपकी विद्यार्थी चित्र को समझेंगे उतनी ही आसानी से वह उन चैप्टर को याद कर सकते हैं और उतना ही अच्छा नंबर वाला सकते हैं। 

जब भी आप  चैप्टर को एक्सप्लेन करें तो एक कहानी के थ्रू उन को समझाने की कोशिश करें और समय-समय पर उनसे सवाल पूछते रहे ताकि उनका ध्यान चैप्टर पर रहे।  विद्यार्थियों से चैप्टर पड़ जाएं और फिर उनका मतलब बताएं। 

कभी भी खुद ही पूरे चैप्टर को पढ़कर उसका उत्तर ना बताएं यह उनका व्याख्यान ना करें।  1 विद्यार्थियों को खड़ा करें और उससे चैप्टर पढ़ा बाय फिर उन सभी बातों को एक कहानी के माध्यम से समझाने की कोशिश करें और फिर विद्यार्थियों से सवाल पूछे। 

सवाल ना बताने पर फिर से समझाएं और फिर सवाल पूछे ऐसा  तब तक करें जब तक उनको समझ में ना आए।  इस प्रकार जब खुद चैप्टर पूरी तरीके से समझ में आएगा तो फिर वह बहुत ही आसानी से हर एक सवाल को कर सकते हैं। 

3. Syllabus जितना है उतना ही पढ़ाए

ज्यादातर शिक्षक यह  गलती करते हैं की वह  सिलेबस से ज्यादा बढ़ाने की कोशिश करते हैं. जब आप सिलेबस से ज्यादा पढ़ाने की कोशिश करते हैं। आपके विद्यार्थी उन बातों पर ध्यान नहीं देते हैं और आपका सिर्फ समय बर्बाद होता है कुछ बच्चों को छोड़कर बाकी सारे बच्चे एक्स्ट्रा पढ़ाई पर ध्यान नहीं देते हैं जिससे आपका समय बर्बाद होता है

बहुत ही जल्द शिक्षक यह गलती करते हैं कि वह जल्दी जल्दी पढ़ाकर सिलेबस को खत्म कर देते हैं जिससे वह सिलेबस को खत्म कर देते हैं लेकिन उनके विद्यार्थियों को कुछ समझ में नहीं आता और वह एग्जाम में अच्छा नंबर नहीं ला पाते हैं जिससे शिक्षक के ऊपर बहुत ही बुरा असर पड़ता है

तो आपको सिलेबस जितना है उतना ही कवर करना है ज्यादा पढ़ाने की कोशिश ना करें अगर आप का सिलेबस समय से पहले खत्म हो जाए तो रिवीजन करवाएं रिवीजन का यह मतलब नहीं होता कि टेस्ट ले टेस्ट तब ले जब आपको लगता है कि सभी बच्चों को आता है।

4.  कहानी के द्वारा समझाने की कोशिश करें

हर शिक्षक का समझाने का तरीका अलग अलग होता है अगर आप जिस तरीके से अभी पढ़ा रहे हैं उस तरीके से अगर आपको रिजल्ट नहीं मिल रहा है अर्थात अगर आपके विद्यार्थी को आपका पढ़ा हुआ समझ में नहीं आ रहा है तो आपको अपने पढ़ाने के तरीके को चेंज करना होगा 

आप जब भी कुछ समझा है तो एक कहानी के द्वारा समझाने की कोशिश करें क्योंकि बच्चों को कहानी काफी ज्यादा पसंद होता है। और वह कहानी को ज्यादा समय तक याद कर पाते हैं सरल भाषा में समझाने की कोशिश करें कभी भी समझाने के लिए कठिन भाषा का उपयोग ना करें ऐसे भाषा का उपयोग करें जिससे सभी को समझ में आए

5. पढ़ाते समय बीच-बीच में मजाक करें

बहुत ही ज्यादा शिक्षक पढ़ाई को लेकर बहुत ही ज्यादा सीरियस रहते हैं जिससे क्लास एकदम बोरिंग हो जाता है किसी को भी पढ़ाई करने का मन नहीं करता है। अगर आप डायरेक्ट टॉपिक पर जितना बताया गया है उतना ही बताएंगे तो वह एकदम बोरिंग हो जाएगा और कोई भी आपकी बात पर ध्यान नहीं देगा तो आप जब भी पड़ा है तो बीच-बीच में छोटी-छोटी बातों को बताएं गहराई से समझाएं कहानी के द्वारा समझाने की कोशिश करें। 

और बीच  बीच में बच्चों से सवाल पूछे और मजाक भी करें, बच्चों को हंसाने की कोशिश करें और जो बच्चा सबसे ज्यादा उत्तर दे उसको सम्मानित करें इस प्रकार से आप बच्चों का ध्यान पढ़ाई की तरफ और भी ज्यादा खींच सकते हैं।

इसे भी पढ़ें – पढ़ाई कब करना चाहिए

6. अपने Class में शांति बनाए रखें

अगर आपके क्लास में शांति नहीं होगी तो कोई भी बच्चा पढ़ाई नहीं कर पाएगा अगर आप एक ऐसे शिक्षक हैं जो कि बहुत ही ज्यादा शांत रहते हैं। तो आपकी बातों पर कोई भी बच्चा ध्यान नहीं देगा अगर आप ही क्लास में ज्यादा शोर होता है तो आपको इस को एकदम बंद करना है

आप जितना अपने क्लास को शांति रख पाए उतना रखने की कोशिश करें। जितना आप पकड़ा शांत रहेगा उतना ही विद्यार्थियों को आपकी बात सुनाई देगी और उतना ही वह आप पर ध्यान देंगे और जब भी कोई भी विद्यार्थी बीच में बात करें या बीच में रुके तो उसको तुरंत मना करें इससे विद्यार्थियों का मन सिर्फ पढ़ाई की ओर जाएगा और उनको अच्छे से सुनाई देगा और सुनी हुई बातों को वहां लंबे समय तक याद रख पाएंगे। 

कोई भी काम हो अगर आप शंकर माहौल में करते हैं तो काफी बेहतर तरीके से कर पाते हैं तो आप अपने क्लास में शांति बनाए रखें तो आप बेहतर तरीके से पढ़ाई कर पाएंगे | पढ़ाई का एक यह भी काफी बेहतर इंपॉर्टेंट टॉपिक है जिसको आपको ध्यान में रखना होगा तो आप बेहतर तरीके से पढ़ाई कर पाएंगे |

और जाने – 9th क्लास में कितने घंटे पढ़ना चाहिए

7. रटने की बजाय Topic को समझने की कोशिश करें

किसी भी टॉपिक को रटवाने की बजाय समझाने पर ज्यादा फोकस करें काफी ज्यादा शिक्षक जब किसी भी टॉपिक को समझाने में असमर्थ होते हैं तो वह उसको रटवानी लगते हैं जो कि एकदम गलत है हटा हुआ ज्ञान ज्यादा देर तक नहीं टिक पाता वह आज नहीं तो कल खत्म हो जाता है तो कभी भी आप अपने विद्यार्थियों को रटने वाला ज्ञान ना दे

ज्यादा से ज्यादा समझाने की कोशिश करें ना कि किसी भी टॉपिक को रखवा कर पड़ा करवा दें ऐसे ज्ञान कम होता है बच्चों की समझदारी कम होती है और वह सिर्फ रखते हैं और रूठा हुआ ही लिखकर पास हो जाते हैं उनकी बुद्धि में कोई असर नहीं पड़ता है

8. Friendly तरीके से पढ़ाने की कोशिश करें

ज्यादातर शिक्षक ये गलती करते हैं कि वह काफी ज्यादा शक्ती से किसी भी चीज को पढ़ाने की कोशिश करते हैं जिससे विद्यार्थी डर के माहौल में पढ़ाई नहीं कर पाता विद्यार्थियों से हमेशा दोस्त की तरह व्यवहार करें और उसी व्यवहार से उनको पढ़ाई मे सहायता करें। 

जब आप एक दोस्त बनकर अपने विद्यार्थियों को पढ़ाते हैं तो वह एक दोस्त बनकर पढ़ते हैं और जो भी उनको समस्या आती है तो वह आपसे तुरंत समझ लेते हैं। और अपनी समस्याओं को आपके साथ शेयर करते हैं जिससे आप उनकी समस्याओं को जान कर उनकी मदद कर सकते हैं। 

बच्चों को पढ़ाने का सही तरीका होता है कि उनको प्यार से समझा कर पढ़ाई ताकि वह पढ़ाई को बोझ के तरीके से ना पड़े और वह आपसे किसी भी समस्या का समाधान बहुत ही आसानी से मांग पाए वह बिना डरे आपसे सवाल कर पाए। तभी आपकी विद्यार्थी आसानी से पढ़ाई कर पाएंगे और वह अच्छा नंबर लेकर आ पाएंगे।

9. कम से कम Rate ले 

Test लेने की बजाए बच्चों से क्लास में ही सवाल जवाब करें। बहुत ही ज्यादा  शिक्षक ज्यादा से ज्यादा टेस्ट लेते हैं और वह समझते हैं कि टेस्ट लेने से बच्चे पढ़ाई में मन लगाएंगे लेकिन ऐसा नहीं होता वह टेस्ट आने पर थोड़े समय तो पढ़ाई करते हैं फिर वह पढ़ाई नहीं करते। आप टेस्ट लेने के बजाय बच्चों से क्लास में ही सवाल और जवाब कर सकते हैं। 

जब आप बच्चों से क्लास में ही पूछते हैं और वह नहीं बता पाते हैं तो उनको बेज्जती महसूस होता है और वह कोशिश करते हैं कि वह अगली बार से याद कर कराएं और टेस्ट में वह इधर उधर से लिख कर आपको दे देते हैं। और टेस्ट का कोई भी महत्व नहीं रहता है।

अगर आप ज्यादा से ज्यादा टेस्ट लेते हैं तो उसको कम करें टेस्ट लेने के बजाय बच्चों को समझाने की कोशिश करें ज्यादा से ज्यादा समझाने का प्रयास करें जितना ज्यादा आपकी विद्यार्थी समझेंगे उतना ही ज्यादा वह नंबर लेकर आ सकते हैं। 

10. बेहतर अध्ययन के लिए Notes बनाये

अगर आप चाहते हैं कि आपके विद्यार्थी बेहतर तरीके से अध्यान करें जो आप पढ़ने उसको याद रखें तो इसके लिए आप उनको बेहतरीन Notes बनाने के लिए प्रेरित कर सकते हैं। या आप उनके लिए एक बेहतरीन Notes बनवा सकते हैं।

जब उनके पास एक अच्छा नोट्स होगा तो वह जब भी पढ़ाई करेंगे तो वह उनको पढ़ेंगे और जब वह उनको पढ़ेंगे तो उनको वह ज्यादा समय तक के लिए याद हो जाएगा। 

आप जितना ज्यादा सरल भाषा में जितना अच्छा नोट्स बनाएंगे उतना ही जल्दी विद्यार्थियों को वह याद हो जाएगा और वह इतनी आसानी से उनको याद कर पाएंगे कभी भी नोट्स को कठिन भाषा में ना लिखवाए  अगर आप कठिन भाषा में नोट्स को  लिख पाएंगे। तो वह  विद्यार्थियों के लिए काफी ज्यादा कठिन होगा। 

और जाने –

Conclusion: स्टूडेंट को कैसे पढ़ाएं (Student Ko Kaise Padhana Chahiye)

Student Ko Kaise Padhana Chahiye: तो आज के लेख में मैंने आपको पूरी जानकारी दी है कि स्टूडेंट को कैसे पढ़ना है और आप एक शिक्षक हैं तो मैं उम्मीद करता हूं कि आपको इस लेख के माध्यम से कुछ सहायता जरूर मिला होगा कि आप कैसे आसानी से अपने विद्यार्थियों को पढ़ा सकते हैं। 

विद्यार्थियों को बढ़ाने के लिए सबसे पहले हमें खुद पढ़ाई करना चाहिए एक शिक्षक है तो आपको पहले किसी भी चैप्टर को बढ़ाने के लिए  खुद पढ़ना चाहिए और यह सोचना चाहिए कि आप इसको कैसे एक स्टोरी के माध्यम से उनको समझा सकते हैं।  जितना सरल तरीके से आप उनको समझा सकते हैं और उन को समझाने का प्रयास करें।  अब जितना सरल तरीके से उनको समझाएंगे उतना उनको समझ में आएगा। 

Spread the love

Leave a Comment